Indiaherald Group of Publishers P LIMITED

X
close save
crop image
x
Thu, Aug 22, 2019 | Last Updated 2:18 pm IST

Menu &Sections

Search

बच गई पृथ्वी, 30 हजार मील प्रति घंटा की रफ्तार से आ रहे उल्कापिंड से टकराव टला

बच गई पृथ्वी, 30 हजार मील प्रति घंटा की रफ्तार से आ रहे उल्कापिंड से टकराव टला
बच गई पृथ्वी, 30 हजार मील प्रति घंटा की रफ्तार से आ रहे उल्कापिंड से टकराव टला
http://apherald-nkywabj.stackpathdns.com/images/appleiconAPH72x72.png apherald.com

नयी दिल्ली। '2019 एनजे2' नाम का उल्कापिंड पलक झपकते ही पृथ्वी से सारी इंसानियत को खत्म कर देता। हालांकि जाके राखो साइयां मार सके ना कोय की तर्ज पर 207 फीट व्यास आकार का यह उल्कापिंड शनिवार रात डेढ़ बजे पृथ्वी के पास से होकर गुजर गया। अंतरिक्ष विज्ञान में महारथ हासिल रखने वाले विशेषज्ञों की मानें तो यह अब तक गुजरे उल्कापिंडों की दूरी के लिहाज से सबसे नजदीक से पृथ्वी के पास से गुजरा है। यह उल्कापिंड किस हद तक खतरनाक हो सकता था, इसका अंदाजा लगाने के लिए सिर्फ उस खगोलीय घटना को याद करना जरूरी है, जिसमें पृथ्वी से टकराए उल्कापिंड ने धरती से डायनासोर समेत पूरा जीवन ही खत्म कर दिया था।

डायनासोर की तरह खत्म हो जाता फिर से जीवन

सरल शब्दों में कहें तो शायद ही कोई होगा जो उल्कापिंड के धरती से टकराने के अंजाम से वाकिफ नहीं हो। धरती पर उल्कापिंड के टकराने का सीधा अर्थ है पूरा का पूरा जीवन का नष्ट हो जाना। हाल की खगोलीय घटनाओं में कई उल्कापिंड पृथ्वी के बेहद नजदीक से गुजरे हैं। हम सौभाग्यशाली हैं कि एक भी उल्कापिंड धरती से नहीं टकराया। यहां यह वैज्ञानिक सिद्धांत भी याद रखना बेहद जरूरी है कि पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण शक्ति इन उल्कापिंडों को अपनी ओर आकर्षित करती है। यानी हर बार उल्कापिंड के धरती से टकराने का खतरा होता है, लेकिन शायद ईश्वर नाम का विश्वास पृथ्वी को बचा लेता है।


30 हजार मील प्रति घंटा की रफ्तार थी '2019 एनजे2' 

इस बार भी ईश्वर ने पृथ्वी से जीवन को खत्म होने से बचाया। '2019 एनजे2' नाम का उल्कापिंड 30 हजार मील प्रति घंटा की रफ्तार से पृथ्वी की ओर बढ़ रहा था। वह पृथ्वी के केंद्र से महज 3.1 मिलियन मील की ही दूरी पर था। अंतरिक्ष विज्ञानी इसके आकार और गति को लेकर खासे संशकित थे। उन्हें आशंका थी कि '2019 एनजे2' उल्कापिंड शनिवार की रात पृथ्वी से टकरा सकता है। यह अलग बात है कि फिर ईश्वरीय आशीर्वाद के तहत यह खतरनाक उल्कापिंड पृथ्वी के नजदीक से निकल गया।

2119 में फिर आएगा '2019 एनजे2'

इस उल्कापिंड को इस साल 29 जून को देखा गया था। इसके पहले पृथ्वी के नजदीक से 1952 में उल्कापिंड गुजरा था। नासा के वैज्ञानिकों का कहना है कि '2019 एनजे2' उल्कापिंड अब 2119 में फिर पृथ्वी की ओर रुख करेगा। इस बार उसकी पृथ्वी से नजदीकी भी कहीं ज्यादा होगी। एक अनुमान के मुताबिक 2119 में '2019 एनजे2' पृथ्वी से महज 23.8 मील दूर से गुजरेगा। यह दूरी खगोलीय घटना के लिहाज से बहुत ज्यादा नहीं है। पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण शक्ति इतनी दूर से गुजर रहे उल्कापिंड को अपनी तरफ खींचने के लिए पर्याप्त है।
700,000 उल्कापिंड गए हैं पहचानें
स्पेस टेलीस्कोप डॉट ऑर्ग के मुताबिक अब तक अंतरिक्ष विज्ञानियों ने 700,000 उल्कापिंडों की पहचान की है। ये मुख्यतः अंतरिक्ष की 'मेन बेल्ट' करार दिए गए क्षेत्र गुरु और मंगल की कक्षाओं में पाए जाते हैं। गौरतलब है कि 2018 में अंतरिक्ष के बेरिंग सी नामक जगह पर उल्कापिंड फट गया था। इस घटना से हिरोशिमा पर गिराए गए परमाणु बम से 10 गुना ज्यादा यानी लगभग 173 किलोटन ऊर्जा उत्पन्न हुई थी। चूंकि यह अद्भुत खगोलीय घटना पृथ्वी से काफी दूर हुई थी, तो सिवाय अंतरिक्ष विज्ञानियों के सामान्य इंसान को इसकी भनक तक नहीं लगी। हालांकि '2019 एनजे2' से पृथ्वी जरूर बाल-बाल बची है। अगर यह उल्कापिंड पृथ्वी से टकरा जाता तो हम और आप यह खबर नहीं पढ़ रहे होते।





Survived Earth, collision with meteorite coming at a speed of 30 thousand miles per hour
5/ 5 - (1 votes)
Add To Favourite
More from author
गिनती कर जानिए कितनी है पी चिदंबरम की संपत्ति
सीबीआई ने जिस बिल्डिंग में चिदंबरम को रखा है, कभी उसी के उद्घाटन में थे अतिथि
पाकिस्तान ने यूनीसेफ से कहा, प्रियंका चोपड़ा को यूनिसेफ से हटाया जाएं
चार भाषाओं में 20 दिसम्बर को रिलीज़ हो रही है सलमान की 'दबंग-3'
बीच रास्ते में ड्राइवर और क्लर्क को कार से उतार कर गायब हो गए चिदंबरम
फर्स्टलुक : 'द गर्ल ऑन द ट्रेन'में परिणीति को देख दहशत में आये दर्शक
मध्‍य प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री और भाजपा नेता बाबूलाल गौर का निधन
KBC 11 : अमिताभ बच्चन ने PUBG से लेकर प्रियंका चोपड़ा की शादी पर पूछे ऐसे सवाल, चकरा गए कंटेस्टेंटस
पठानकोट जैसे हमले की फिराक में पाक, आतंकियों को दी गई पाक रेंजर्स की पोशाक
मीका की मौजूदगी कहीं सलमान के लिए मुश्किल न खड़ी कर दे???
पाकिस्तानियों की एक और ओछी हरकत, हेल्पलाइन नंबर पर कॉल कर कहे अपशब्द
गिरिराज का नया नारा, 'जय कश्मीर, जय भारत, अबकी बार उस पार'
साजिद खान और जैकलीन के बीच फिर से 'कुछ-कुछ हो रहा है'...?
श्रद्धांजलि : 'ये ज़मीं चुप है आसमां चुप है फिर ये धड़कन सी चार सू क्या है'
महान संगीतकार खय्याम ने दुनिया को कहा अलविदा
प्रियंका-दीपिका की बेइज्जती, कहा- इन्‍हें देख आती है उल्‍टी, यूजर बोला- चुप भिखारी
देश में आईएसआई एजेंट के साथ दाखिल हुए 4 आतंकी, देशभर में हाई अलर्ट जारी
मुझे 8 साल से टीबी थी और मैं इस मर्ज़ से अनजान था : अमिताभ बच्चन
पोस्टर : ‘भूल भुलैया’ में अक्षय को फॉलो करते नज़र आ रहे हैं कार्तिक आर्यन
क्या आप जानते हैं कि अपने ही मम्मी-पापा की फोटो नहीं देखतीं सनी लियोनी?
फर्जी धमकी मिलने के बाद बढ़ाई गई भारतीय टीम की सुरक्षा
 मशहूर गायिका लता मंगेशकर से उनके घर पर मिले कोविंद
अरुण जेटली की हालत नाजुक, आज पीएम कर सकते हैं मुलाकात
अच्छी एक्टिंग के लिए अनन्या को मिले थे 500 रुपये नजराने में
तो इस बार सलमान खान कहेंगे... 'क़ुबूल है' .... क़ुबूल है .... क़ुबूल है !!!
पूर्णकालिक वित्त मंत्री बनने वालीं देश की प्रथम महिला, निर्मला सीतारमण
भोजपुरी सुपरस्टार खेसारी लाल यादव के खिलाफ FIR दर्ज
काबुल के वेडिंग हॉल में विस्‍फोट, 40 की मौत, 100 से ज्‍यादा घायल
अगले 24 घंटों में देश के इन 8 राज्यों में भारी बारिश की आशंका, अलर्ट जारी
दूरदर्शन की एंकर नीलम शर्मा का निधन
'साहो' ने रिलीज से पहले ही अपनी लागत की कमाई निकाल ली
एक देश, एक कानून की आवश्यकता पूरे राष्ट्र को है : एकता कपूर
About the author

Bharath has been the knowledge focal point for the world, As Darvin evolution formula End is the Start ... Bharath again will be the Knowledge Focal Point to the whole world. Want to hold the lamp and shine light on the path of greatness for our country Bharath.