Indiaherald Group of Publishers P LIMITED

X
close save
crop image
x
Thu, Oct 17, 2019 | Last Updated 6:52 am IST

Menu &Sections

Search

चांद को छूने से ऐन पहले गुम हो गया चंद्रयान

चांद को छूने से ऐन पहले गुम हो गया चंद्रयान
चांद को छूने से ऐन पहले गुम हो गया चंद्रयान
http://apherald-nkywabj.stackpathdns.com/images/appleiconAPH72x72.png apherald.com

भारत के चंद्र मिशन को शनिवार तड़के उस समय झटका लगा, जब लैंडर विक्रम से चंद्रमा के सतह से महज दो किलोमीटर पहले इसरो का संपर्क टूट गया। इसके साथ ही 978 करोड़ रुपये लागत वाले चंद्रयान-2 मिशन का भविष्य अंधेरे में झूल गया है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के. सिवन ने संपर्क टूटने की घोषणा करते हुए कहा कि चंद्रमा की सतह से 2.1 किमी पहले तक लैंडर का प्रदर्शन योजना के अनुरूप था। उन्होंने कहा कि उसके बाद उसका संपर्क टूट गया।


1- शनिवार तड़के लगभग 1.38 बजे जब 30 किलोमीटर की ऊंचाई से 1,680 मीटर प्रति सेकेंड की रफ्तार से 1,471 किलोग्राम का विक्रम चंद्रमा की सतह की ओर बढ़ना शुरू किया, तब सबकुछ ठीक था।


2- इसरो ने एक आधिकारिक बयान में कहा, “यह मिशन कंट्रोल सेंटर है। विक्रम लैंडर योजना अनुरूप उतर रहा था और गंतव्य से 2.1 किलोमीटर पहले तक उसका प्रदर्शन सामान्य था। उसके बाद लैंडर का संपर्क जमीन पर स्थित केंद्र से टूट गया। डेटा का विश्लेषण किया जा रहा है।”


3- इसरो के टेलीमेट्री, ट्रैकिंग एंड कमांड नेटवर्क केंद्र के स्क्रीन पर देखा गया कि विक्रम अपने निर्धारित पथ से थोड़ा हट गया और उसके बाद संपर्क टूट गया। लैंडर बड़े ही आराम से नीचे उतर रहा था, और इसरो के अधिकारी नियमित अंतराल पर खुशी जाहिर कर रहे थे। लैंडर ने सफलतापूर्वक अपना रफ ब्रेक्रिंग चरण को पूरा किया और यह अच्छी गति से सतह की ओर बढ़ रहा था।


4- इसरो के एक वैज्ञानिक के अनुसार, लैंडर का नियंत्रण उस समय समाप्त हो गया होगा, जब नीचे उतरते समय उसके थ्रस्टर्स को बंद किया गया होगा और वह दुर्घटनाग्रस्त हो गया होगा, जिसके कारण संपर्क टूट गया। हालांकि 978 करोड़ रुपये लागत वाले चंद्रयान-2 मिशन का सबकुछ समाप्त नहीं हुआ है।


5- इसरो के एक अधिकारी ने नाम न जाहिर करने के अनुरोध के साथ आईएएनएस को बताया, “मिशन का सिर्फ पांच प्रतिशत -लैंडर विक्रम और प्रज्ञान रोवर- नुकसान हुआ है, जबकि बाकी 95 प्रतिशत -चंद्रयान-2 ऑर्बिटर- अभी भी चंद्रमा का सफलतापूर्वक चक्कर काट रहा है।” एक साल मिशन अवधि वाला ऑर्बिटर चंद्रमा की कई तस्वीरें लेकर इसरो को भेज सकता है। अधिकारी ने कहा कि ऑर्बिटर लैंडर की तस्वीरें भी लेकर भेज सकता है, जिससे उसकी स्थिति के बारे में पता चल सकता है।


6- चंद्रयान-2 अंतरिक्ष यान में तीन खंड हैं -ऑर्बिटर (2,379 किलोग्राम, आठ पेलोड), विक्रम (1,471 किलोग्राम, चार पेलोट) और प्रज्ञान (27 किलोग्राम, दो पेलोड)। विक्रम दो सितंबर को आर्बिटर से अलग हो गया था। 


7- चंद्रयान-2 को इसके पहले 22 जुलाई को भारत के हेवी रॉकेट जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हिकल-मार्क 3 (जीएसएलवी एमके 3) के जरिए अंतरिक्ष में लॉन्च किया गया था।


8- चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण 22 जुलाई को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केन्द्र से किया गया था। 14 अगस्त तक पृथ्वी की कक्षा में रहने के बाद चंद्रमा की ओर उसकी यात्रा शुरू हुई थी और छह दिन बाद 20 अगस्त को वह चंद्रमा की कक्षा में पहुंचा था। 


9- चंद्रयान-2 के तीन हिस्से ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर में से ऑर्बिटर अब भी चंद्रमा की कक्षा में चक्कर लगा रहा है जबकि तय योजना के अनुसार लैंडर विक्रम और उसके अंदर स्थित रोवर प्रज्ञान को आज तड़के डेढ़ से ढाई बजे के बीच चंद्रमा की सतह पर उतारा जाना था। 


10- चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम के चंद्रमा की सतह पर उतरने की प्रक्रिया का जीवंत प्रसारण का अवलोकन करने के लिए इसरो के बेंगलुरु स्थित टेलीमेंट्री ट्रैकिंग एंड कमांड नेटवर्क (आईएसटीआरएसी) केन्द्र में मौजूद पीएम मोदी ने विक्रम लैंडर का संपर्क टूटने के बाद इसरो के चेयरमैन डॉ के सिवन और वहां मौजूद सभी वैज्ञानिकों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा, “ जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं, यह कोई मामूली उपलब्धि नहीं है, देश को आप पर गर्व है, बेहतर की उम्मीद रखें।”




Chandrayaan lost one before touching the moon
5/ 5 - (1 votes)
Add To Favourite
More from author
खूब चढ़ेगा का रंग जब करवाचौथ पर सजना के नाम की मेहंदी में मिलाएंगी ये चीज़ें
करवाचौथ पर भूलकर भी ना पहने यह रंग वरना...
सिद्धार्थ शुक्ला ने इस कंटेस्टेंट को कहा कमीनी, हो रहे हैं ट्रोल
दीवाली से पहले पीएफ खाताधारकों के लिए बड़ी खुशखबरी...
बॉलीवुड की 'ड्रीम गर्ल' हेमा मालिनी की जिंदगी से जुड़े ये अनसुने किस्से जिसे जानकर रह जाएंगा दंग
जब हमारे देश की ताकत बढ़ती है, तो कांग्रेस परेशान हो जाती है : पीएम मोदी
ये रिश्ता क्या कहलाता है फेम मोहिना कुमारी सिंह ने लिए सात फेरे
इनकी हिम्मत के आगे हारी लाचारी, बनीं देश की पहली नेत्रहीन IAS अफसर
TSRTC Strike : कर्मचारी यूनियनों का सरकार की नीति से कोई संबंध नहीं - केशव राव
आलिया भट्ट को अपनी भाभी बनाने पर करीना ने कहा- 'मैं दुनिया की...'
FATF में अलग-थलग पड़ा PAK, 'डार्क ग्रे' सूची डाला जा सकता है उसका नाम
लेस्ब‍ियन लव स्टोरी पर बेस्ड फिल्म 'शीर कोरमा' का पोस्टर आउट
भोजपुरी एक्ट्रेस ने पीएम से लगाई गुहार, ‘पति बहुत मारता है.. मुझे बचा लीजिए वर्ना मर जाऊंगी’
एक बार फिर विश्व कीर्तिमान बनाने की तैयारी में अयोध्या नगरी
प्याज-टमाटर के बाद अब लहसून ने बिगाड़ा भोजन का स्वाद, इतने रुपये तक बढ़ा भाव
इंस्टाग्राम पर दुनिया के सबसे पॉपुलर नेता बने पीएम मोदी
चेक बाउंस मामले में अमीषा पटेल के खिलाफ वॉरंट जारी
GOLD AWARDS 2019 : जानिए आपके पंसदीदा ​टीवी कलाकार को मिला कौन सा अवार्ड
कांग्रेस के आए 'बुरे दिन', पैसों की तंगी के चलते चाय-नाश्ते के खर्च पर लगाई लगाम
तेलंगाना में आरटीसी की हड़ताल तेज, 19 को तेलंगाना बंद का आह्वान
कांग्रेस नेता राहुल गांधी रविवार को करेंगे प्रचार अभियान की शुरुआत
त्योहारों के लिए अनीता हसनंदानी के इन लुक्स से लें इंस्पिरेशन
फिर हंसाने आए नवाजुद्दीन सिद्दीकी, सामने आया 'मोतीचुर चकनाचूर' का ट्रेलर
बिकिनी पहनने से इस एक्ट्रेस ने किया साफ़ मना, कहा- 'मेरे संस्कार ऐसे नहीं...'
भारतीय सेना ने चेताया - PoK के शिविरों में 500 आतंकी कश्मीर में घुसपैठ की फिराक में बैठे हैं
पारंपरिक तमिल वेशभूषा में नज़र आए पीएम मोदी, महाबलीपुरम में किया जिनपिंग का स्वागत
About the author

Bharath has been the knowledge focal point for the world, As Darvin evolution formula End is the Start ... Bharath again will be the Knowledge Focal Point to the whole world. Want to hold the lamp and shine light on the path of greatness for our country Bharath.